वह स्थान मंदिर है, जहाँ पुस्तकों के रूप में मूक, किन्तु ज्ञान की चेतनायुक्त देवता निवास करते हैं। - आचार्य श्रीराम शर्मा
कृपया दायीं तरफ दिए गए 'हमारे प्रशंसक' लिंक पर क्लिक करके 'अपनी हिंदी' के सदस्य बनें और हिंदी भाषा के प्रचार-प्रसार में अपना योगदान दें। सदस्यता निशुल्क है।
Flipkart.com

बुधवार, 30 मई 2012

आक के पत्ते (उपन्यास)

 

 अमृता जी के उपन्यास तथा कहानियां भी जैसे कविता की तरह हैं। अपनी कहनियों और उपन्यासों में अमृता जी ने बहुत से सामाजिक मुद्दे बड़ी शिद्दत के साथ उठाये हैं। 

'आक के पत्ते' इनका एक चर्चित उपन्यास है.

अमृता प्रीतम (१९१९-२००५)पंजाबी के सबसे लोकप्रिय लेखकों में से एक थी। पंजाब के गुजराँवाला जिले में पैदा हुईं अमृता प्रीतम को पंजाबी भाषा की पहली कवयित्री माना जाता है। उन्होंने कुल मिलाकर लगभग १०० पुस्तकें लिखी हैं जिनमें उनकी चर्चित आत्मकथा रसीदी टिकट भी शामिल है। अमृता प्रीतम उन साहित्यकारों में थीं जिनकी कृतियों का अनेक भाषाओं में अनुवाद हुआ। अपने अंतिम दिनों में अमृता प्रीतम को भारत का दूसरा सबसे बड़ा सम्मान पद्मविभूषण भी प्राप्त हुआ। उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार से पहले ही अलंकृत किया जा चुका था।

चर्चित कृतियाँ :
उपन्यास- पांच बरस लंबी सड़क, पिंजर, अदालत, कोरे कागज़, उन्चास दिन, सागर और सीपियां आत्मकथा-रसीदी टिकट
कहानी संग्रह- कहानियाँ जो कहानियाँ नहीं हैं, कहानियों के आँगन में
संस्मरण- कच्चा आंगन, एक थी सारा





उपन्यास के कुछ अंश:

उर्मी का कहीं नाम निशान नहीं, जैसे उर्मी कभी थी ही नहीं। मैं उर्मी की बात करूं तो उसके लगे लिपटे मुझे ऐसे देखते हैं जैसे मैं जिन्न भूतों की बात कर रहा हूं। और जैसे उर्मी को सिर्फ मैंने ही कभी देखा हो, और किसी ने कभी आंखों से देखा ही ना हो।
सब गवाहियां खत्म हो गयी हैं, सिर्फ एक गवाही यहां गांव के स्कूल के कागजों में पड़ी हुई है, जहां उर्मी को दाखिल करते वक्त लिखा गया था- उर्मी , उम्र छः साल, पिता का नाम हरीशचन्द्र।

एक दिन पूछता हूं "पिताजी, राजा हरीशचन्द्र सत्यवादी था। आप चाहे फिर कभी सच ना बोलना, पर एक बार सच बता दो - उर्मी कहां है?"
पिताजी खटिया की अदवायन को इतने जोर से खींचते हैं कि अदवायन टूट जाती है।
मां मूढ़े पर एक गठरी की तरह बैठी हुई है। गांव का हकीम उसकी रीढ़ की हड्डी पर रोज लेप करता है, और कहता है कि उसे कभी ढीली खाट पर ना सुलाना।
इसलिये पिता जी रोज उसकी खाट कसते हैं.....
पिताजी खटिया की अदवायन को गांठ लगाने लगते हैं, तो मूढ़े पर पड़ी हुई गठरी धीरे से रोने लगती है, "हाय री बेटी, कौन टूटी को जोड़े...."
गठरी ही कहूंगा....मां होती तो जोर जोर से विलाप ना करती.......
सोचता हूं - उर्मी अगर एक सुंदर सजीली लड़की ना होती, किसी खाट की खुरदरी अदवायन होती तो उसकी उम्र को गांठ लग जाती.....
फिर कमरे का आला मेरी तरफ देखता है और मैं कमरे के आले की तरफ। उसकी भी छाती में किसी ने ऐसे बुटका भरा है, जैसे मेरी छाती में। वहां - आले में एक तस्वीर थी, मेरी और उर्मी की। एक बार पिताजी, हम दोनों की अंगुली पकड़ कर एक मेले पर ले गये थे। उर्मी तब कोई सात बरस की थी, और मैं पांच बरस का। और वहां मेले में हम दोनों बहन भाई की तस्वीर उतरवायी ती। पर आज वह तस्वीर वहां पर नहीं रही। मैं और यह आला, दोनों मिल कर पूछते हैं, "पिताजी, वह तस्वीर कहां चली गयी?"
"तुझे क्या करनी है तस्वीर?" पिताजी गुस्से में अदवायन को इस तरह खींचते हैं, मुझे लगता है कि अदवायन फिर टूट जायेगी।
कहता हूं,"उसकी एक ही तो निशानी थी!"
पिताजी खीज कर बोलते हैं, "निशानी अब सिर से मारनी है?"
मैं ढीठों की तरह कहता हूं, " आपको नहीं जरूरत थी, तो ना रखते, मुझे दे देते, मैं शहर वाले कमरे में लगा लेता।"
"डूब जाये तेरा शहर..." पिता का सारा बदन खुरदरी अदवायन की तरह कस जाता है। और शायद अनके अपने बदन की छिलतरें उनके हांथों में चुभ आती हैं, वह हाथों को मलते से मेरी तरफ देखते हैं।
जानता हूं - मैं शहर में कमरा ले कर जब कॉलेज में पढ़ने लगा था तो , उर्मी ने अपने पिहरियों और ससुरालियों के आगे हाथ जोड़े थे कि उसका आदमी अगर कुछ बरसों के लिये कीनिया कमाने चला गया था , तो वह गांव में पड़ी क्या करेगी, उसे शहर जा कर आगे पढ़े लेने दें। और वह शहर जाकर आगे पढ़ने के लिये कॉलेज में दाखिल हो गयी थी। हम बहन भाई दोनों शहर में कमरा ले कर रहते थे....
निशानी से याद आता है कि उर्मी अगर जिंदा होती....सिर्फ तीन चार महीने और जिंदा रहती - तो उसका बच्चा भी एक निशानी होता......








डाउनलोड लिंक :

(निम्न में से कोई भी एक क्लिक करें . अगर कोई लिंक काम नहीं कर रहा है तो अन्य लिंक प्रयोग करके देखेंडाउनलोड करने में कोई परेशानी हो या डाउनलोड करना नहीं आता तो कृपया यहाँ क्लिक करें)


SendMyWay:
Click here

DepositFiles:
Click Here


JumboFiles:
Click Here

Rapidshare:
Click Here

Ziddu:
Click Here



Multi-Mirror Download Link:
Click Here

अमृता प्रीतम की अन्य रचनायें भी 'अपनी हिंदी' पर उपलब्ध हैइन्हें डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो तो कृपया यहाँ क्लिक करें)
ये पुस्तक आपको कैसी लगी? कृपया अपनी टिप्पणियां अवश्य दें।


अगर आपको ये पुस्तक पसंद आई हो तो इसे नीचे दिए गए लिंक से फेसबुक  पर लाइक  करें!





[ Keywords: Free hindi books, Free hindi ebooks, Free hindi stories, Hindi stories pdf, Hindi PDF Books, Hindi sahitya , Hindi kahani, Hindi e books, Hindi e book, free hindi novels, Hindi Text Book, Amrita preetam Books ]
पूरा लेख पढ़ें ...

अमृता प्रीतम की कवितायेँ

 
अमृता प्रीतम (१९१९-२००५)पंजाबी के सबसे लोकप्रिय लेखकों में से एक थी। पंजाब के गुजराँवाला जिले में पैदा हुईं अमृता प्रीतम को पंजाबी भाषा की पहली कवयित्री माना जाता है। उन्होंने कुल मिलाकर लगभग १०० पुस्तकें लिखी हैं जिनमें उनकी चर्चित आत्मकथा रसीदी टिकट भी शामिल है। अमृता प्रीतम उन साहित्यकारों में थीं जिनकी कृतियों का अनेक भाषाओं में अनुवाद हुआ। अपने अंतिम दिनों में अमृता प्रीतम को भारत का दूसरा सबसे बड़ा सम्मान पद्मविभूषण भी प्राप्त हुआ। उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार से पहले ही अलंकृत किया जा चुका था।

चर्चित कृतियाँ :
उपन्यास- पांच बरस लंबी सड़क, पिंजर, अदालत, कोरे कागज़, उन्चास दिन, सागर और सीपियां आत्मकथा-रसीदी टिकट
कहानी संग्रह- कहानियाँ जो कहानियाँ नहीं हैं, कहानियों के आँगन में
संस्मरण- कच्चा आंगन, एक थी सारा



प्रस्तुत पुस्तिका में अमृता प्रीतम की कुछ कवितायेँ दी गयी है



फाइल का आकार: ३०० Kb


डाउनलोड लिंक :

(निम्न में से कोई भी एक क्लिक करें . अगर कोई लिंक काम नहीं कर रहा है तो अन्य लिंक प्रयोग करके देखेंडाउनलोड करने में कोई परेशानी हो या डाउनलोड करना नहीं आता तो कृपया यहाँ क्लिक करें)


SendMyWay:
Click here

DepositFiles:
Click Here


JumboFiles:
Click Here

Rapidshare:
Click Here

Ziddu:
Click Here



Multi-Mirror Download Link:
Click Here

अमृता प्रीतम की अन्य रचनायें भी 'अपनी हिंदी' पर उपलब्ध हैइन्हें डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो तो कृपया यहाँ क्लिक करें)
ये पुस्तक आपको कैसी लगी? कृपया अपनी टिप्पणियां अवश्य दें।


अगर आपको ये पुस्तक पसंद आई हो तो इसे नीचे दिए गए लिंक से फेसबुक  पर लाइक  करें!







(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो तो कृपया यहाँ क्लिक करें)
ये पुस्तक आपको कैसी लगी? कृपया अपनी टिप्पणियां अवश्य दें।
[ Keywords: Free hindi books, Free hindi ebooks, Free hindi stories, Hindi stories pdf, Hindi PDF Books, Hindi sahitya , Hindi kahani, Hindi e books, Hindi e book, free hindi novels, Hindi Text Book, Amrita preetam Books ]
पूरा लेख पढ़ें ...

चंद्रकांता - उपन्यास (देवकीनंदन खत्री)



चंद्रकांता उपन्यास (Chandrakanta Hindi Novel )

चंद्रकांता को एक प्रेम कथा कहा जा सकता है। इस शुद्ध लौकिक प्रेम कहानी को, दो दुश्मन राजघरानों, नवगढ और विजयगढ के बीच, प्रेम और घृणा का विरोधाभास आगे बढ़ाता है। विजयगढ की राजकुमारी चंद्रकांता और नवगढ के राजकुमार विरेन्द्र विक्रम को आपस मे प्रेम है। लेकिन राज परिवारों में दुश्मनी है।
 
यह शुद्ध लौकिक प्रेम-कहानी है, जिसमें तिलिस्मी और ऐयारी के अनेक चमत्कार पाठक को चमत्कृत करते हैं। नौगढ़ के राजा सुरेन्द्रसिंह के पुत्र वीरेन्द्रसिंह तथा विजयगढ़ के राजा जयसिंह की पुत्री चन्द्रकान्ता के प्रणय और परिणय की कथा उपन्यास की प्रमुख कथा है। इस प्रेम कथा के साथ-साथ ऐयार तेजसिंह तथा ऐयारा चपला की प्रेम- कहानी भी अनेकत्र झलकती है। विजयगढ़ के दीवान कुपथसिंह का पुत्र क्रूरसिंह इस उपन्यास का खलनायक है। वह राजकुमारी को हथियाने के लिए अनेक षड्यन्त्र रचता है।

चंद्रकांता उपन्यास को पढने के लिए हजारों लोगो ने उस समय हिन्दी सीखी थी। इस पर एक लोकप्रिय टीवी सीरियल भी बना था। 



डाउनलोड लिंक :

(निम्न में से कोई भी एक क्लिक करें . अगर कोई लिंक काम नहीं कर रहा है तो अन्य लिंक प्रयोग करके देखेंडाउनलोड करने में कोई परेशानी हो या डाउनलोड करना नहीं आता तो कृपया यहाँ क्लिक करें)


NetLoad:
Click here

DepositFiles:
Click Here


JumboFiles:
Click Here

Rapidshare:
Click Here

Ziddu:
Click Here



Multi-Mirror Download Link:
Click Here



(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो तो कृपया यहाँ क्लिक करें)
ये पुस्तक आपको कैसी लगी? कृपया अपनी टिप्पणियां अवश्य दें।


अगर आपको ये पुस्तक पसंद आई हो तो इसे नीचे दिए गए लिंक से फेसबुक  पर लाइक  करें!



देवकीनंदन खत्री का अन्य महान उपन्यास 'चंद्रकांता'  'अपनी हिंदी' पर उपलब्ध है. इसे डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें.
देवकीनंदन खत्री के अन्य सभी उपन्यास डाउनलोड करने के लिए
यहाँ क्लिक करें .





ये पुस्तक आपको कैसी लगी? कृपया अपनी टिप्पणियां अवश्य दें।

(Download Hindi Palmistry Book in PDF. Free Download)

[ Keywords: Free hindi books, Free hindi ebooks, Free hindi stories, Hindi stories pdf, Hindi PDF Books, Hindi sahitya , Hindi kahani,    Hindi e books, Hindi e book, free hindi novels, Hindi Text Book, Download O. Henery Stories in hindi for free Rapidshare, Hotfile, Megaupload, Filesonic Links for Hindi Downloads ]
पूरा लेख पढ़ें ...

सरल हसतरेखा शास्त्र (हिंदी)




सरल हस्तरेखा शास्त्र (हिंदी) 

मनुष्य में सदा से ही अपने भाग्य को जानने की इच्छा रही है और हसतरेखा इसका एक अच्छा माध्यम है । ह्सतरेखा विज्ञानं प्राचीन काल से ही भारत में लोकप्रिय है । भारत ही इसका जन्मदाता है । यहाँ तक कि विश्व प्रसिद हसतरेखा विशेषज्ञ कीरो ने भी इस ज्ञान को भारत में ही आकर सीखा था ।

किसी भी व्यक्ति के हाथ को देखकर उसके जीवन की कमियों का पता लगाया जा सकता है और उनको दूर भी किया जा सकता है। यदि समय रहते समस्या पता लग जाए तो उसका समाधान भी आसन हो जाता है।

अत्यन्त सरल भाषा में लिखी हुई २०० पन्नों की प्रस्तुत पुस्तक जिज्ञासु पाठको को अवश्य पसंद आयेगी ।



फाइल का आकार: 2.5 Mb


डाउनलोड लिंक :

(निम्न में से कोई भी एक क्लिक करें . अगर कोई लिंक काम नहीं कर रहा है तो अन्य लिंक प्रयोग करके देखेंडाउनलोड करने में कोई परेशानी हो या डाउनलोड करना नहीं आता तो कृपया यहाँ क्लिक करें)


2Shared:
Click here

DepositFiles:
Click Here


JumboFiles:
Click Here

Rapidshare:
Click Here

Ziddu:
Click Here



Multi-Mirror Download Link:
Click Here



(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो तो कृपया यहाँ क्लिक करें)
ये पुस्तक आपको कैसी लगी? कृपया अपनी टिप्पणियां अवश्य दें।



अगर आपको ये पुस्तक पसंद आई हो तो इसे नीचे दिए गए लिंक से फेसबुक  पर लाइक  करें!


देवकीनंदन खत्री का अन्य महान उपन्यास 'चंद्रकांता'  'अपनी हिंदी' पर उपलब्ध है. इसे डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें.
देवकीनंदन खत्री के अन्य सभी उपन्यास डाउनलोड करने के लिए
यहाँ क्लिक करें .





ये पुस्तक आपको कैसी लगी? कृपया अपनी टिप्पणियां अवश्य दें।

(Download Hindi Palmistry Book in PDF. Free Download)

[ Keywords: Free hindi books, Free hindi ebooks, Free hindi stories, Hindi stories pdf, Hindi PDF Books, Hindi sahitya , Hindi kahani,    Hindi e books, Hindi e book, free hindi novels, Hindi Text Book, Download O. Henery Stories in hindi for free Rapidshare, Hotfile, Megaupload, Filesonic Links for Hindi Downloads ]
पूरा लेख पढ़ें ...

मंगलवार, 29 मई 2012

देखा परखा सच


 बच्चे जिज्ञासु होते है . उन्हें हर बात का जवाब चाहिए। ऐसा क्यूँ होता है, वैसा क्यूँ होता है। ऐसा क्यूँ नहीं होता आदि .
'देखा परखा सच' बच्चों की पुस्तक है। बच्चे इससे खेल-खेल में विज्ञान सीख सकते है . इसमें बच्चों के लिए बहुत सी उपयोगी जानकारियां है। जैसे पहिये की कहानी, मिटटी के बर्तन, इंटों की कहानी आदि । इसमें दी गयी जानकारियां पढ़कर बच्चों को  बहुत अच्छा लगेगा।

इसे हमारे पास जयपुर से श्री मोहन लाल शर्मा ने भेजा है
अवश्य पढ़ें।


फाइल का आकार:
14 Mb

डाउनलोड लिंक :

(निम्न में से कोई भी एक क्लिक करें . अगर कोई लिंक काम नहीं कर रहा है तो अन्य लिंक प्रयोग करके देखें.)
(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो या डाउनलोड करना नहीं आता तो कृपया यहाँ क्लिक करें)


2Shared:
Click here

DepositFiles:
Click Here


JumboFiles:
Click Here

Rapidshare:
Click Here

Ziddu:
Click Here



Multi-Mirror Download Link:
Click Here



(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो तो कृपया यहाँ क्लिक करें)
ये पुस्तक आपको कैसी लगी? कृपया अपनी टिप्पणियां अवश्य दें।






[ Keywords: Free hindi books, Free hindi ebooks, Free hindi stories, Hindi stories pdf, Hindi PDF Books, Hindi sahitya , Hindi kahani,    Hindi e books, Hindi e book, free hindi novels, Hindi Text Book, Download O. Henery Stories in hindi for free Rapidshare, Hotfile, Megaupload, Filesonic Links for Hindi Downloads ]
पूरा लेख पढ़ें ...

शनिवार, 26 मई 2012

मेरी तेरी उसकी बात



'मेरी तेरी उसकी बात' यशपाल जी का एक प्रसिद्ध उपन्यास है। यह उपन्यास 'साहित्य अकादमी' द्वारा पुरस्कृत है।




इस उपन्यास की पृष्ठभूमि अगस्त 1942 का ‘भारत छोड़ों’ आन्दोलन का विस्फोट है। परन्तु यह कहानी दो पीड़ियों से क्रान्ति की वेदना को अदम्य बनाते वैयक्तिक, पारिवारिक, सामाजिक और साम्रप्रदायिक विषमताओं का स्पष्टीकरण भी है।



यशपाल अपनी आरम्भिक रचनाओं से ही नारी विषमताओं के मुखरतम विरोधी और उसकी पूर्ण स्वतंत्रता के समर्थक रहे हैं। इस रचना में यह बात उन्होंने और सबल तथा निश्शंक स्वर में कही है।

पूरा उपन्यास आदि से अन्त तक रोचक है। आगामी पचासों वर्षों तक यह उपन्यास भारतीय कथाकारों के लिए मार्ग दर्शक रहेगा।




लेखक परिचय:
यशपाल (३ दिसंबर १९०३ - २६ दिसंबर १९७६) का नाम आधुनिक हिन्दी साहित्य के कथाकारों में प्रमुख है। ये एक साथ ही क्रांतिकारी एवं लेखक दोनों रूपों में जाने जाते है। प्रेमचंद के बाद हिन्दी के सुप्रसिद्ध प्रगतिशील कथाकारों में इनका नाम लिया जाता है।

अपने विद्यार्थी जीवन से ही यशपाल क्रांतिकारी आन्दोलन से जुड़े, इसके परिणामस्वरुप लम्बी फरारी और जेल में व्यतीत करना पड़ा । इसके बाद इन्होने साहित्य को अपना जीवन बनाया, जो काम कभी इन्होने बंदूक के माध्यम से किया था, अब वही काम इन्होने बुलेटिन के माध्यम से जनजागरण का काम शुरु किया। यश पाल को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।
 
फाइल का आकार: 18 Mb

डाउनलोड लिंक :

(निम्न में से कोई भी एक क्लिक करें . अगर कोई लिंक काम नहीं कर रहा है तो अन्य लिंक प्रयोग करके देखें.)
(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो या डाउनलोड करना नहीं आता तो कृपया यहाँ क्लिक करें)


2Shared:
Click here

DepositFiles:
Click Here


BitShare:
Click Here

Rapidshare:
Click Here

Ziddu:
Click Here



Multi-Mirror Download Link:
Click Here



(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो तो कृपया यहाँ क्लिक करें)
ये पुस्तक आपको कैसी लगी? कृपया अपनी टिप्पणियां अवश्य दें।






[ Keywords: Free hindi books, Free hindi ebooks, Free hindi stories, Hindi stories pdf, Hindi PDF Books, Hindi sahitya , Hindi kahani,    Hindi e books, Hindi e book, free hindi novels, Hindi Text Book, Download O. Henery Stories in hindi for free Rapidshare, Hotfile, Megaupload, Filesonic Links for Hindi Downloads ]
पूरा लेख पढ़ें ...

आंखन देखी (अमरीका मेरी निगाहों से)





'आंखन देखि' पुस्तक में श्री दुर्गाप्रसाद अग्रवाल ने अपनी अमेरिका यात्रा का रोचक वर्णन किया है। 
सुपरिचित साहित्यकार डॉ दुर्गाप्रसाद अग्रवाल की यह कृति "आंखन देखी" महज़ एक यात्रा वृत्तांत नहीं है. यद्यपि इस पुस्तक में डॉ अग्रवाल ने अपनी अमरीका यात्रा के विविध अनुभवों को शब्दबद्ध किया है, पर यह कई कारणों से एक अनूठी साहित्यिक कृति बन गई है. डॉ अग्रवाल ने विश्व के अग्रणी पूंजीवादी देश अमरीका को खुली आंखों और बिना पूर्वाग्रहों के तो देखा ही है और उसकी उन्मुक्त सराहना भी की है, किंतु इसे उनकी अतिरिक्त सम्वेदनशीलता और वैचारिक प्रतिबद्धता का सुफल ही माना जाना चाहिए कि वे इस समृद्ध, सफल समाज की विसंगतियों को भी देखने और बताने से नहीं चूके हैं.

इस कृति में अमरीका के भौतिक पक्ष की अपेक्षा उसके मानवीय पक्ष को अधिक प्रमुखता दी गई है. और इसी के साथ, जो बात इस पुस्तक को इस तरह के अन्य रचनाकर्म से अलग तथा बेहतर सिद्ध करती है वह है रचनाकार की साहित्यिकता. अपने सामान्य वर्णनों में भी डॉ अग्रवाल का साहित्यिक स्पर्श, और स्थान-स्थान पर साहित्यकारों और साहित्य के सन्दर्भ इस पुस्तक को एक दुर्लभ गरिमा प्रदान करते हैं.
डॉ अग्रवाल के पास जो सहज प्रवाहमयी भाषा है वह इस पुस्तक को ऐसी पठनीयता प्रदान करती है जो इधर के बोझिल साहित्यिक लेखन के घटाटोप में विरल हो चली है . 

(विवरण रचनाकार से साभार)
उन्होंने अपनी ये पुस्तक हमें भेजी, इसके लिए उनका धन्यवाद् ।

अवश्य पढ़ें ।


फाइल का आकार: 2 Mb



डाउनलोड लिंक :

(निम्न में से कोई भी एक क्लिक करें . अगर कोई लिंक काम नहीं कर रहा है तो अन्य लिंक प्रयोग करके देखें.)
(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो या डाउनलोड करना नहीं आता तो कृपया यहाँ क्लिक करें)


2Shared:
Click here

DepositFiles:
Click Here


BitShare:
Click Here

Rapidshare:
Click Here

Ziddu:
Click Here



Multi-Mirror Download Link:
Click Here



(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो तो कृपया यहाँ क्लिक करें)
ये पुस्तक आपको कैसी लगी? कृपया अपनी टिप्पणियां अवश्य दें।






[ Keywords: Free hindi books, Free hindi ebooks, Free hindi stories, Hindi stories pdf, Hindi PDF Books, Hindi sahitya , Hindi kahani,    Hindi e books, Hindi e book, free hindi novels, Hindi Text Book, Download O. Henery Stories in hindi for free Rapidshare, Hotfile, Megaupload, Filesonic Links for Hindi Downloads ]
पूरा लेख पढ़ें ...

शुक्रवार, 25 मई 2012

डाउनलोड कैसे करें


कृपया डाउनलोड सम्बन्धी कोई भी शिकायत करने से पहले ये पोस्ट जरूर देखें। 


(Note: हमने जिन वेबसाइट पर अपनी पुस्तकें अपलोड  की हुई थी, उनमे से कुछ बंद हो गयी है। इसलिए बहुत सारी पुरानी  पुस्तकें डाउनलोड के लिए उपलब्ध नहीं है। हम इनके लिंक दुबारा उपलब्ध करवाने की कोशिश कर रहे है। 


प्रिय पाठकों ,
हमें पता चला है कि कुछ पाठकों को 'अपनी हिंदी' से पुस्तकें डाउनलोड करने में दिक्कत आ रही है। उन्हें समझ में नहीं आ रहा है कि पुस्तकें डाउनलोड कैसे करनी है। इसीलिए आप सभी की सुविधा के लिए हम आपको ये जानकारी दे रहे है। 


डाउनलोड कैसे करें:

(नोट: नीचे कुछ यू-ट्यूब से लिए गए विडियो दिए जा रहे है. इन्हें देखकर  भी आप डाउनलोड करना सीख सकते है.)
 
हमारी हर पुस्तक अन्य फाइल होस्टिंग वेबसाइट पर अपलोड की जाती है. ये वेबसाइट अपने सदस्य की फाइल को आपने यहाँ पर सुरक्षित रखते है. इनकी सेवा मुफ्त होती है. ये फाइल डाउनलोड करने के लिए कोई पैसा नहीं लेते।
( इनमे मुख्य है. Rapidshare .com , Mediafire.com , Hotfile .com इत्यादि) ।

जब हम इनसे कोई फाइल डाउनलोड करते है तो ये हमें कुछ सेकंड का timer दिखाती है. हमें उतने सेकंड इन्तजार करना होता है. उसके बाद डाउनलोड लिंक दिखाई देता है ।

डाउनलोड करना बहुत आसान है। बस आपको निम्न कार्य करना है:

() Step 1
अब जैसे आपने 'सरल वास्तु शास्त्र' पुस्तक डाउनलोड करनी है. इसे डाउनलोड करने के लिए पोस्ट में कई डाउनलोड लिंक दिए गए है। जैसे  एक mediafire का है तो दूसरा 2Shared या Rapidshare या Ziddu  का  है। इनमे से किसी एक पर क्लिक करें.

(नोट: अगर लिंक उपलब्ध हो तो बेहतर परिणाम के लिए इन्ही तीनो (Rapidshare , MediaFire , 2Shared ) में से डाउनलोड करे. इनसे डाउनलोड करना आसान है.)

अब adf.ly का पन्ना खुलेगा । यह एक विज्ञापन सेवा है। इस पन्ने पर ५ सेकंड तक इन्तजार करें। ५ सेकंड के बाद सबसे ऊपर दायीं तरफ SKIP AD लिखा आएगा । इस पर क्लिक करें । (देखें चित्र )

अब डाउनलोड प्रदान करने वाली वेबसाइट खुलेगी।

नोट: यह step 1  सभी के लिए समान है चाहे किसी भी लिंक पर क्लिक करें

(2) Step २ अब माना आपने Deposit Files  वाले लिंक पर क्लिक किया । तो adf.ly के बाद जो पन्ना खुला, उसमे ऊपर हमारी फाइल से सम्बंधित सारी जानकारी आ जाएगी जैसे की फाइल का नाम, आकार आदि । अब Free  Downloading  पर क्लिक करें.

 नीचे दायीं ओर Timer अपने आप चल पड़ेगा जो कि अमूमन 50-55 सेकंड का होता है (देखें चित्र)। 
अब इसके बाद आपको दो शब्द भरने है जो आपको दिखाए जायेंगे. यह बिलकुल सही होने चाहिए. नहीं तो आपको दुबारा भरने पड़ेंगे. इसके बाद डाउनलोड पर क्लिक करें.। Download अपने आप शुरू हो जायेगा। (देखें चित्र)

(३.) अब जैसे आपने Rapidshare वाले लिंक (जहाँ इसके आगे डाउनलोड फाइल लिखा हुआ है.) पर क्लिक किया. अब Rapidshare की वेबसाइट का पेज खुलेगा. जिस पर पुस्तक को डाउनलोड करने के लिए निर्देश दिए हुए होंगे.
जैसे लिखा हुआ होगा:
Free Users Click here to Download या Download या फ्री Download या Regular Download।
आपने इस लिंक पर क्लिक करना है.

आपके क्लिक करते ही timer शुरू हो जाएगा। उसके बाद डाउनलोड लिंक दिखाई देगा। इस पर क्लिक करते ही आपका डाउनलोड शुरू हो जायेगा जो की एक पीडीऍफ़ फाइल है. इसे पढने के लिए आपके पास Adobe Acrobat Reader या Foxit PDF Reader software होना चाहिए.

बाकी सभी वेबसाइट का भी इससे मिलता-जुलता तरीका है. आप किसी से भी डाउनलोड कर सकते है.


कृपया ध्यान दे:
१। अधिकतर वेबसाइट पर आप एक वेबसाइट से एक बार में एक ही पुस्तक डाउनलोड कर सकते है। दूसरी पुस्तक डाउनलोड करने के लिए पहला डाउनलोड ख़तम होने का इन्तजार करना होगा।

२। कुछ वेबसाइट पर डाउनलोड शुरू करने के लिए एक कोड भरना पड़ेगा (जैसे hotfile पर ) जो उसी पेज पर एक फोटो के रूप में दिया गया होगा। अगर कोड गलत भर दिया जाए तो आपको फिर से दूसरा सही कोड भरने को कहा जायेगा।

३। कुछ वेबसाइट एक के बाद एक लगातार दो फाइल डाउनलोड करने की इजाजत नहीं देती। इसके लिए कुछ समय इन्तजार करना होता है। उसके बाद दूसरा डाउनलोड शुरू होता है। जैसे Hotfile पर आप आधे घंटे में एक ही पुस्तक डाउनलोड कर सकते है। मान लीजिये आपने 10:40 पर एक फाइल डाउनलोड की तो आप 11:10 तक दूसरी फाइल Hotfile.com से डाउनलोड नहीं कर सकते।


४। अगर एक वेबसाइट पर फाइल उपलब्ध नहीं है या ज्यादा समय इन्तजार करना पड़े तो आप दूसरी वेबसाइट से भी पुस्तक डाउनलोड कर सकते है।

हमने शुरुआत में जो पुस्तकें उपलब्ध करवाई थी वो सभी Rapidshare पर उपलब्ध है। हम कोशिश कर रहे है कि इनको भी एक से ज्यादा वेबसाइट पर उपलब्ध करवाया जायें।
कृपया अपना सहयोग बनाये रखें। 






Video Tutorials:
नीचे कुछ यू-ट्यूब से लिए गए विडियो दिए जा रहे है. इन्हें देखकर  भी आप डाउनलोड करना सीख सकते है. 

Ziddu:

Click Here

Rapidshare:

Click Here




धन्यवाद्,


प्रबंधक।

पूरा लेख पढ़ें ...

बुधवार, 23 मई 2012

ग्रहण: मिथक और यथार्थ




'ग्रहण: मिथक और यथार्थ' पुस्तक में ग्रहण के बारे में विस्तार से जानकारी दी गयी है । इसमें ग्रहण को लेकर दुनिया भर में प्रचलित अंध-विश्वाशों के बारे में भी बताया गया है।

ग्रहण एक खगोलिय अवस्था है जिसमें कोई खगोलिय पिंड जैसे ग्रह या उपग्रह किसी प्रकाश के स्त्रोत जैसे सूर्य और दूसरे खगोलिय पिंड जैसे पृथवी के बीचा आ जाता है जिससे प्रकाश का कुछ समय के लिये अवरोध हो जाता है।

इनमें मुख्य रुप से पृथवी के साथ होने वाले ग्रहणों में निम्नलिखित उल्लेखनीय हैं:
    चंद्रग्रहण - इस ग्रहण में चाँद या चंद्रमा और सूर्य के बीच पृथवी आ जाती है। ऐसी स्थिती में चाँद पृथवी की छाया से होकर गुजरता है। ऐसा सिर्फ पूर्णिमा के दिन संभव होता है।
    सूर्यग्रहण - इस ग्रहण में चाँद सूर्य और पृथवी एक ही सीध में होते हैं और चाँद पृथवी और सूर्य के बीच होने की वजह से चाँद की छाया पृथवी पर पड़ती है। ऐसा अक्सर अमावस्या के दिन होता है।
    पूर्ण ग्रहण तब होता है जब खगोलिय पिंड जैसे पृथवी पर प्रकाश पूरी तरह अवरुद्ध हो जाये।
    आंशिक ग्रहण की स्थिती में प्रकाश का स्त्रोत पूरी तरह अवरुद्ध नहीं होता



अवश्य पढ़ें।


यह पुस्तक हमें भोपाल से श्री राजीव शर्मा  ने भेजी है।
फाइल का आकार: 3 Mb
डाउनलोड लिंक :

(निम्न में से कोई भी एक क्लिक करें . अगर कोई लिंक काम नहीं कर रहा है तो अन्य लिंक प्रयोग करके देखें.)
(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो या डाउनलोड करना नहीं आता तो कृपया यहाँ क्लिक करें)


2Shared:
Click here

PutLocker:
Click Here


BitShare:
Click Here

Rapidshare:
Click Here

Ziddu:
Click Here



Multi-Mirror Download Link:
Click Here



(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो तो कृपया यहाँ क्लिक करें)
ये पुस्तक आपको कैसी लगी? कृपया अपनी टिप्पणियां अवश्य दें।






[ Keywords: Free hindi books, Free hindi ebooks, Free hindi stories, Hindi stories pdf, Hindi PDF Books, Hindi sahitya , Hindi kahani,    Hindi e books, Hindi e book, free hindi novels, Hindi Text Book, Download O. Henery Stories in hindi for free Rapidshare, Hotfile, Megaupload, Filesonic Links for Hindi Downloads ]
पूरा लेख पढ़ें ...

शनिवार, 19 मई 2012

'पुष्पा' - उपन्यास






आप सभी के लिए पेश है  एक और उपन्यास- 'पुष्पा' . उपन्यास की  कथावस्तु अद्वतीय है .
रहस्य रोमांच एवं मानवीय रिश्तों  के पवित्र और घ्रणित दोनों पक्ष उजागर करने वाला अत्यंत
रोचक उपन्यास है .

अवश्य पढ़ें 


ये पुस्तक हमें हमारे नियमित पाठक श्री संजय अग्निहोत्री ने भेजी है।  संजय जी, आपका बहुत-बहुत  धन्यवाद्. . 

फाइल का आकार: 
1 Mb

डाउनलोड लिंक :

(निम्न में से कोई भी एक क्लिक करें . अगर कोई लिंक काम नहीं कर रहा है तो अन्य लिंक प्रयोग करके देखें.)
(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो या डाउनलोड करना नहीं आता तो कृपया यहाँ क्लिक करें)


2Shared:
Click here

PutLocker:
Click Here


Deposit Files:
Click Here

Rapidshare:
Click Here

Ziddu:
Click Here



Multi-Mirror Download Link:
Click Here



(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो तो कृपया यहाँ क्लिक करें)
ये पुस्तक आपको कैसी लगी? कृपया अपनी टिप्पणियां अवश्य दें।






[ Keywords: Free hindi books, Free hindi ebooks, Free hindi stories, Hindi stories pdf, Hindi PDF Books, Hindi sahitya , Hindi kahani,    Hindi e books, Hindi e book, free hindi novels, Hindi Text Book, Download O. Henery Stories in hindi for free Rapidshare, Hotfile, Megaupload, Filesonic Links for Hindi Downloads ]
पूरा लेख पढ़ें ...

सोमवार, 14 मई 2012

शुन्य - हिंदी उपन्यास





सुनील डोईफोडे  का दहशत, सन्देह, रहस्य एवं रोमांच से भरा हिंदी उपन्यास
 दिसंबर के महीने में गोवा में कत्लों की श्रंखला, जिनकी छानबीन जाने
क्यों, शुन्य की खोज से सम्बंधित भारतीय इतिहास कि ओर इंगित कर रही थी।
क्या था वो? आतंकवाद? हिन्दू आतंकवाद? या कुछ और?


जानने के लिए पढ़िए  - 'शुन्य'

ये पुस्तक हमें हमारे नियमित पाठक श्री संजय अग्निहोत्री ने भेजी है।  संजय जी, आपका बहुत-बहुत  धन्यवाद्. . 

फाइल का आकार: 
1 Mb

डाउनलोड लिंक :

(निम्न में से कोई भी एक क्लिक करें . अगर कोई लिंक काम नहीं कर रहा है तो अन्य लिंक प्रयोग करके देखें.)
(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो या डाउनलोड करना नहीं आता तो कृपया यहाँ क्लिक करें)


2Shared:
Click here

PutLocker:
Click Here


Deposit Files:
Click Here

Rapidshare:
Click Here

Ziddu:
Click Here



Multi-Mirror Download Link:
Click Here



(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो तो कृपया यहाँ क्लिक करें)
ये पुस्तक आपको कैसी लगी? कृपया अपनी टिप्पणियां अवश्य दें।






[ Keywords: Free hindi books, Free hindi ebooks, Free hindi stories, Hindi stories pdf, Hindi PDF Books, Hindi sahitya , Hindi kahani,    Hindi e books, Hindi e book, free hindi novels, Hindi Text Book, Download O. Henery Stories in hindi for free Rapidshare, Hotfile, Megaupload, Filesonic Links for Hindi Downloads ]
पूरा लेख पढ़ें ...

गुरुवार, 10 मई 2012

माखनलाल चतुर्वेदी का कविता संग्रह - हिम तरंगिणी



माखनलाल चतुर्वेदी (४ अप्रैल १८८९-३० जनवरी १९६८) भारत के ख्यातिप्राप्त कवि, लेखक और पत्रकार थे जिनकी रचनाएँ अत्यंत लोकप्रिय हुईं। सरल भाषा और ओजपूर्ण भावनाओं के वे अनूठे हिंदी रचनाकार थे। प्रभा और कर्मवीर जैसे प्रतिष्ठत पत्रों के संपादक के रूप में उन्होंने ब्रिटिश शासन के खिलाफ जोरदार प्रचार किया और नई पीढी का आह्वान किया कि वह गुलामी की जंज़ीरों को तोड़ कर बाहर आए। इसके लिये उन्हें अनेक बार ब्रिटिश साम्राज्य का कोपभाजन बनना पड़ा। सच्चे देशप्रमी थे और १९२१-२२ के असहयोग आंदोलन में सक्रिय रूप से भाग लेते हुए जेल भी गए। आपकी कविताओं में देशप्रेम के साथ साथ प्रकृति और प्रेम का भी सुंदर चित्रण हुआ है।

उनके काव्य संग्रह 'हिमतरंगिणी' के लिये उन्हें १९५५ में हिन्दी के 'साहित्य अकादमी पुरस्कार' से सम्मानित किया गया।



फाइल का आकार:
4 Mb

डाउनलोड लिंक :

(निम्न में से कोई भी एक क्लिक करें . अगर कोई लिंक काम नहीं कर रहा है तो अन्य लिंक प्रयोग करके देखें.)
(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो या डाउनलोड करना नहीं आता तो कृपया यहाँ क्लिक करें)


2Shared:
Click here

BitShare:
Click Here


Deposit Files:
Click Here

Rapidshare:
Click Here

Ziddu:
Click Here



Multi-Mirror Download Link:
Click Here



(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो तो कृपया यहाँ क्लिक करें)
ये पुस्तक आपको कैसी लगी? कृपया अपनी टिप्पणियां अवश्य दें।






[ Keywords: Free hindi books, Free hindi ebooks, Free hindi stories, Hindi stories pdf, Hindi PDF Books, Hindi sahitya , Hindi kahani,    Hindi e books, Hindi e book, free hindi novels, Hindi Text Book, Download O. Henery Stories in hindi for free Rapidshare, Hotfile, Megaupload, Filesonic Links for Hindi Downloads ]
पूरा लेख पढ़ें ...

पृथ्वी की अद्भुत रोग नाशक शक्तियां





'पृथ्वी की अद्भुत रोग नाशक शक्तियां' एक प्राकृतिक चिकित्सा पर आधारित पुस्तक है । इसमें लेखक ने वैज्ञानिक तर्कों के आधार पर ये बताया है कि मनुष्य अगर पृथ्वी के साथ ज्यादा से ज्यादा सम्पर्क में रहे तो उसकी स्वास्थ्य सम्बन्धी सभी समस्याएं दूर हो सकती है  और वह एक निरोगी जीवन बिता सकता है।  यह पुस्तक सभी उम्र के पाठकों के लिए उपयोगी साबित होगी, ऐसी हमें आशा है।

अवश्य पढ़ें ।

फाइल का आकार: 1 Mb






डाउनलोड लिंक :


(निम्न में से कोई भी एक क्लिक करें . अगर कोई लिंक काम नहीं कर रहा है तो अन्य लिंक प्रयोग करके देखें.)
(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो या डाउनलोड करना नहीं आता तो कृपया यहाँ क्लिक करें)


2Shared:
Click here

BitShare:
Click Here


Deposit Files:
Click Here

Rapidshare:
Click Here

Ziddu:
Click Here



Multi-Mirror Download Link:
Click Here



(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो तो कृपया यहाँ क्लिक करें)
ये पुस्तक आपको कैसी लगी? कृपया अपनी टिप्पणियां अवश्य दें।






[ Keywords: Free hindi books, Free hindi ebooks, Free hindi stories, Hindi stories pdf, Hindi PDF Books, Hindi sahitya , Hindi kahani,    Hindi e books, Hindi e book, free hindi novels, Hindi Text Book, Download O. Henery Stories in hindi for free Rapidshare, Hotfile, Megaupload, Filesonic Links for Hindi Downloads ]

पूरा लेख पढ़ें ...

सोमवार, 7 मई 2012

बच्चों का पालन तथा उनके रोग


'बच्चों का पालन तथा उनके रोग' - एक  प्राकृतिक चिकित्सा पर आधारित पुस्तक है । 


इसमें अनुभवी लेखक द्वारा बच्चों के विभिन्न रोगों जैसे बुखार, खसरा, पीलिया आदि का प्राकृतिक चिकित्सा द्वारा इलाज करना बताया गया है।


संक्षेप में, यह एक ऐसी गाइड है जो प्रत्येक माता-पिता के लिए उपयोगी और संग्रहणीय है। 

इस विषय पर लेखक का व्यावहारिक और व्यावसायिक दृष्टिकोण निश्चय ही माता में आत्मविश्वास पैदा करने और स्वस्थ तथा प्रसन्नचित्त शिशु का लालन-पालन करने में उसकी क्षमता बढ़ाएगा।

फाइल का आकार: 2 Mb




डाउनलोड लिंक :


(निम्न में से कोई भी एक क्लिक करें . अगर कोई लिंक काम नहीं कर रहा है तो अन्य लिंक प्रयोग करके देखें.)
(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो या डाउनलोड करना नहीं आता तो कृपया यहाँ क्लिक करें)


2Shared:
Click here

BitShare:
Click Here


Deposit Files:
Click Here

Rapidshare:
Click Here

Ziddu:
Click Here



Multi-Mirror Download Link:
Click Here



(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो तो कृपया यहाँ क्लिक करें)
ये पुस्तक आपको कैसी लगी? कृपया अपनी टिप्पणियां अवश्य दें।






[ Keywords: Free hindi books, Free hindi ebooks, Free hindi stories, Hindi stories pdf, Hindi PDF Books, Hindi sahitya , Hindi kahani,    Hindi e books, Hindi e book, free hindi novels, Hindi Text Book, Download O. Henery Stories in hindi for free Rapidshare, Hotfile, Megaupload, Filesonic Links for Hindi Downloads ]

पूरा लेख पढ़ें ...

फर्मी के प्रश्न या अनुमान लगाने की कला



क्या आप अनुमान लगाकर बता सकते है कि आपके शहर में कितने मकान है या कितने भोजनालय है या कितने विद्यार्थी है या दुनिया में कितने आदमी गंजे है ?

'फर्मी के प्रश्न या अनुमान लगाने की कला' 
एक विज्ञान आधारित पुस्तक है । इसमें अनुमान लगाने की कला के बारे में बताया गया है । यह कला प्रसिद्ध वैज्ञानिक एनरीको फर्मी की देन है।

एनरिको फेर्मि ( Enrico Fermi, 1901-1954) इटैलियन भौतिक विज्ञानी एवं नोबेल पुरस्कार विजेता थे।

फर्मी प्रश्न (Fermi question) या 'फर्मी की समस्या' (Fermi problem) या 'फर्मी का आकलन' (Fermi estimate) त्वरित किन्तु रफ प्राक्कलन की एक विधि है जो विमीय विश्लेषण, सन्निकटन, आदि का की शिक्षा देने के लिये डिजाइन की गयी है। इसका उपयोग विज्ञान के हर क्षेत्र में होता है किन्तु भौतिकी एवं इंजीनियरी के क्षेत्र में यह विशेष रूप से प्रयुक्त होता है। इसमें अपनी मान्यताओं (assumptions) की स्पष्ट पहचान करने का महत्व सीखने को मिलता है। इसका नाम प्रसिद्ध भौतिकशास्त्री एनरिको फर्मी के नाम पर पड़ा है। इस तरह की समस्याओं में किसी राशि का तर्कसंगत मान का आकलन करना होता है जिनका मान दिये हुए अपर्याप्त सूचनाओं के आधार पर निकालना असम्भव होता है। उदाहरण के लिये, डल झील में बूदों की संख्या कितनी होगी?)



फर्मी प्रश्नों के कुछ उदाहरण



  • एक सूटकेस में क्रिकेट की कितनी गेदें समा सकेंगी?
  • आपके सर पर कितने बाल हैं?
  • इंदौर शहर में कुल कितनी कारें हैं?
  • यदि एक चम्मच जल में निहित सम्पूर्ण ऊर्जा का उपयोग करके जल को गरम किया जाय तो कितना लीटर जल को उसके क्वथनांक तक ले जाया जा सकता है? (माना जल का आरंभिक ताप = २० डिग्री सेल्सियस)
  • एक लीटर पेट्रोल में कितने जूल ऊर्जा निहित है?
  • १०० वाट के एक बल्ब से प्रति सेकेण्ड कितने फोटान निकलते होंगे?
  • मानव शरीर में कितनी कोशिकाएं होंगी?
  • आपके फेफड़े में आक्सीजन के कितने अणु प्रति सेकेण्ड घुसते होंगे?
  • आपके शहर में एक सप्ताह में कितने लीटर पेट्रोल खर्च होता होगा?





नोट: इस पुस्तक को नए सिरे से उपलब्ध करवा दिया गया है। अब इसे पढने में कोई मुश्किल नहीं आएगी

अवश्य पढ़ें।


फाइल का आकार: २ Mb



डाउनलोड लिंक :

(निम्न में से कोई भी एक क्लिक करें . अगर कोई लिंक काम नहीं कर रहा है तो अन्य लिंक प्रयोग करके देखें.)
(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो या डाउनलोड करना नहीं आता तो कृपया यहाँ क्लिक करें)


2Shared:
Click here

BitShare:
Click Here


Deposit Files:
Click Here

Rapidshare:
Click Here

Ziddu:
Click Here



Multi-Mirror Download Link:
Click Here



(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो तो कृपया यहाँ क्लिक करें)
ये पुस्तक आपको कैसी लगी? कृपया अपनी टिप्पणियां अवश्य दें।






[ Keywords: Free hindi books, Free hindi ebooks, Free hindi stories, Hindi stories pdf, Hindi PDF Books, Hindi sahitya , Hindi kahani,    Hindi e books, Hindi e book, free hindi novels, Hindi Text Book, Download O. Henery Stories in hindi for free Rapidshare, Hotfile, Megaupload, Filesonic Links for Hindi Downloads ]
पूरा लेख पढ़ें ...
Blogger Tips And Tricks|Latest Tips For Bloggers Free Backlinks

Deals of the Day

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में

 

ताजा पोस्ट:

लेबल

कहानी उपन्यास कविता धार्मिक इतिहास प्रेमचंद जीवनी विज्ञान सेहत हास्य-व्यंग्य शरत चन्द्र तिलिस्म बाल-साहित्य ज्योतिष मोपांसा देवकीनंदन खत्री पुराण बंकिम चन्द्र वीडियो हरिवंश राय बच्चन अनुवाद देशभक्ति प्रेरक यात्रा-वृतांत दिनकर यशपाल विवेकानंद ओ. हेनरी कहावतें धरमवीर भारती नन्दलाल भारती ओशो किशोरीलाल गोस्वामी कुमार विश्वास जयशंकर प्रसाद महादेवी वर्मा संस्मरण अमृता प्रीतम जवाहरलाल नेहरु पी.एन. ओक रहीम रांगेय राघव वृन्दावनलाल वर्मा हरिशंकर परसाई अज्ञेय इलाचंद्र जोशी कृशन चंदर गुरुदत्त चतुरसेन जैन भारतेन्दु हरिश्चन्द्र मन्नू भंडारी मोहन राकेश रबिन्द्रनाथ टैगोर राही मासूम रजा राहुल सांकृत्यायन शरद जोशी सुमित्रानंदन पन्त असग़र वजाहत उपेन्द्र नाथ अश्क कालिदास खलील जिब्रान चन्द्रधर शर्मा गुलेरी तसलीमा नसरीन फणीश्वर नाथ रेणु

ताजा टिप्पणियां:

अपनी हिंदी - Free Hindi Books | Novel | Hindi Kahani | PDF | Stories | Ebooks | Literature Copyright © 2009-10. A Premium Source for Free Hindi Books

;