वह स्थान मंदिर है, जहाँ पुस्तकों के रूप में मूक, किन्तु ज्ञान की चेतनायुक्त देवता निवास करते हैं। - आचार्य श्रीराम शर्मा
कृपया दायीं तरफ दिए गए 'हमारे प्रशंसक' लिंक पर क्लिक करके 'अपनी हिंदी' के सदस्य बनें और हिंदी भाषा के प्रचार-प्रसार में अपना योगदान दें। सदस्यता निशुल्क है।
Flipkart.com

गुरुवार, 9 सितंबर 2010

कुमार विश्वास की कविता (वीडियो) - 'जो धरती से अम्बर जोड़े उसका नाम मोहब्बत है..'





कुमार विश्वास का जन्म 10 फ़रवरी (वसंत पंचमी), 1970 को पिअखुआ (ग़ाज़ियाबाद, उत्तर प्रदेश) में हुआ था। चार भाईयों और एक बहन में सबसे छोटे कुमार विश्वास ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा लाला गंगा सहाय स्कूल, पिलखुआ में प्राप्त की। उनके पिता डा चन्द्रपाल शर्मा आर एस एस डिग्री कालेज (चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय, मेरठ से सम्बद्ध), पिलखुआ में प्रवक्ता रहे। उनकी माता श्रीमती रमा शर्मा गृहिणी हैं। राजपूताना रेजिमेंट इंटर कालेज से बारहवीं में उनके उत्तीर्ण होने के बाद उनके पिता उन्हें इंजीनियर (अभियंता) बनाना चाहते थे। डा कुमार विश्वास का मन मशीनों की पढाई में नहीं रमा, और उन्होंने बीच में ही वह पढाई छोड़ दी। साहित्य के क्षेत्र में आगे बढने के ख्याल से उन्होंने स्नातक और फिर हिन्दी साहित्य में स्नातकोत्तर किया, जिसमें उन्होंने स्वर्ण-पदक प्राप्त किया। तत्प्श्चात उन्होंने "कौरवी लोकगीतों में लोकचेतना" विषय पर पीएचडी प्राप्त किया। उनके इस शोध-कार्य को 2001 में पुरस्कृत भी किया गया।डा कुमार विश्वास हिन्दी भाषा के एक अग्रणी कवि हैं। श्रंगार रस के गीत इनकी विशेषता है।

डा कुमार विश्वास ने अपना कैरियर राजस्थान में प्रवक्ता के रूप में 1994 मे शुरू किया। तत्पश्वात वो अब तक महाविद्यालयों में अध्यापन कार्य कर रहे हैं। इसके साथ ही डा विश्वास हिन्दी कविता मंच के सबसे व्यस्ततम कवियों में से हैं। उन्होंने अब तक हज़ारों कवि-सम्मेलनों में कविता पाठ किया है। साथ ही वह कई पत्रिकाओं में नियमित रूप से लिखते हैं। डा विश्वास मंच के कवि होने के साथ साथ हिन्दी फ़िल्म इंडस्ट्री के गीतकार भी हैं। उनके द्वार लिखे गीत अगले कुछ दिनों में फ़िल्मों में दिखाई पड़ेगी। उन्होंने आदित्य दत्त की फ़िल्म 'चाय-गरम' में अभिनय भी किया है।

पेश है उनकी एक और कविता:
"जो धरती से अम्बर जोड़े उसका नाम मोहब्बत है..."


वीडियो:






[ Keywords: Free hindi books, Free hindi ebooks, Free hindi stories, Hindi stories pdf, Hindi PDF Books, Hindi sahitya , Hindi kahani, Hindi e books, Hindi e book, free hindi novels, Hindi Text Book ]

9 टिप्पणियां:

बेनामी ने कहा…

baki sab thik likha bas yah likhnaa bhul gaye ki hindi ke is jaane maane kavi ko apni kavitayein likhte samay(?) hindi vyakaran, ling-bhed se lekar shabd-prahasan tak nahi aata.....

baki manchiy kavi hain to sab chal jaataa hai.... jo dikhta hai vo bikta hai..... kya raja dr kumar vishwas sahi kahaa na, aapke is khaas bande ne, i know ki nai padhoge ye comment kabhi koi padhwayega tab bhi aur koi batayega tab to pehchan ne se inkar hi kar doge mujhe jabki pichhle 8 sal se yahi baatein aamne-saamne kahta aa raha hu tumhe...

dr b k locanda on 10/9/10 10:00 pm ने कहा…

aap kahte hai manchiye kavi hai phir aap ye bhi kahte hai ki vyakaran ling-bhed se lekar shabd-prahasan tak nahi aata are bhai aayega to manch par sunane kaun aayega dr sahab akele hi gayenge jo dharti se amber jode aur logon ke haath bhi jodenge mujhe suno

बेनामी ने कहा…

Benami sahab
aap ka naam hi benami hai ya padaish bhi
Ab aap jo bhi hain zara apna naam pata bhi bata deyn hum dr saab ko aap tak zarur pahunchwa denge
wada hai
yadi naam ,apna aur papa ka bhi aap ke pata na ho aap ko to koi baat nahi
hahaha ...haha haha

mukesh on 14/9/10 11:44 pm ने कहा…

ye sab kya hai, aise chup chup ke likne ka koi fayda hai,
main DR. sahab ko achi tareh janta ho, ab bhe jab wo ak popular kavi ha aur tub bhe job wo kavi ke room main nahi jane jate the.

from 1989 se.
kyo DR. sahab

mukesh

बेनामी ने कहा…

haan beta sahi keh rahe ho

बेनामी ने कहा…

By Arvind Naroliya..........
App hndi ke liye jo bhi kar rahe hai vo ek srahniy karya hai.app kar payenge kyo ki app ajj ki takniki ka upyog karna jante ho.
ccha hoga agar aap or jyada in kavitao ko multimedia ki sahayata se badaye.
and change your website design. thoda dinemic hona chahiye jo kisi ko bhi acha kage.

arvind(Film Editor)

बेनामी ने कहा…

नागार्जुन की कमी खल रही है

sanju on 11/2/12 7:19 pm ने कहा…

hamare bharat ke samgra vikash ke liye ye abyasak ho jata he ke ham intertainment main roj kuch naya le so its our moral duty to promot dr kumar

kundan kumar Arya on 22/10/12 9:20 pm ने कहा…

hamare desh me ase kaviyon bahut kami hai jo desh aur yuvapidi ko aage lekar chale

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियां हमारी अमूल्य धरोहर है। कृपया अपनी टिप्पणियां देकर हमें कृतार्थ करें ।

Blogger Tips And Tricks|Latest Tips For Bloggers Free Backlinks

Deals of the Day

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में

 

ताजा पोस्ट:

लेबल

कहानी उपन्यास कविता धार्मिक इतिहास प्रेमचंद जीवनी विज्ञान सेहत हास्य-व्यंग्य शरत चन्द्र तिलिस्म बाल-साहित्य ज्योतिष मोपांसा देवकीनंदन खत्री पुराण बंकिम चन्द्र वीडियो हरिवंश राय बच्चन अनुवाद देशभक्ति प्रेरक यात्रा-वृतांत दिनकर यशपाल विवेकानंद ओ. हेनरी कहावतें धरमवीर भारती नन्दलाल भारती ओशो किशोरीलाल गोस्वामी कुमार विश्वास जयशंकर प्रसाद महादेवी वर्मा संस्मरण अमृता प्रीतम जवाहरलाल नेहरु पी.एन. ओक रहीम रांगेय राघव वृन्दावनलाल वर्मा हरिशंकर परसाई अज्ञेय इलाचंद्र जोशी कृशन चंदर गुरुदत्त चतुरसेन जैन भारतेन्दु हरिश्चन्द्र मन्नू भंडारी मोहन राकेश रबिन्द्रनाथ टैगोर राही मासूम रजा राहुल सांकृत्यायन शरद जोशी सुमित्रानंदन पन्त असग़र वजाहत उपेन्द्र नाथ अश्क कालिदास खलील जिब्रान चन्द्रधर शर्मा गुलेरी तसलीमा नसरीन फणीश्वर नाथ रेणु

ताजा टिप्पणियां:

अपनी हिंदी - Free Hindi Books | Novel | Hindi Kahani | PDF | Stories | Ebooks | Literature Copyright © 2009-10. A Premium Source for Free Hindi Books

;