वह स्थान मंदिर है, जहाँ पुस्तकों के रूप में मूक, किन्तु ज्ञान की चेतनायुक्त देवता निवास करते हैं। - आचार्य श्रीराम शर्मा
कृपया दायीं तरफ दिए गए 'हमारे प्रशंसक' लिंक पर क्लिक करके 'अपनी हिंदी' के सदस्य बनें और हिंदी भाषा के प्रचार-प्रसार में अपना योगदान दें। सदस्यता निशुल्क है।
Flipkart.com

मंगलवार, 21 सितंबर 2010

श्री पुरुषोत्तम नागेश ओक की पुस्तक - 'कौन कहता है अकबर महान था?'





'कौन कहता है अकबर महान था?' श्री पुरुषोत्तम नागेश ओक की पुस्तक है। इसमें उन्होंने ये साबित करने की कोशिश की है कि अकबर एक दुराचारी राजा था और उसने काफी अत्याचार भारतीय जनता पर किये थे।
इसके विषय में उन्होंने कई प्रमाण भी दिए है.इसमें उन्होंने ये साबित करने की कोशिश की है कि अकबर एक दुराचारी राजा था और उसने काफी अत्याचार भारतीय जनता पर किये थे।

अवश्य पढ़ें।




डाउनलोड :
कृपया यहाँ क्लिक करें






(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो तो कृपया यहाँ क्लिक करें)


ये पुस्तक आपको कैसी लगी? कृपया अपनी टिप्पणियां अवश्य दें।



[ Keywords: Free hindi books, Free hindi ebooks, Free hindi stories, Hindi stories pdf, Hindi PDF Books, Hindi sahitya , Hindi kahani, Hindi e books, Hindi e book, free hindi novels, Hindi Text Book, P. N. Oak Books, Kaun Kehta hai akbar mahaan tha ]

27 टिप्पणियां:

माधव on 21/9/10 7:57 pm ने कहा…

nice

गजेन्द्र सिंह on 21/9/10 8:12 pm ने कहा…

बहुत बहुत धन्यवाद ..... हो सके तो इन साहब कि सभी पुस्तके उपलब्ध करवाए .....

इसे भी पढ़े और कुछ कहे :-
http://thodamuskurakardekho.blogspot.com/2010/09/86.html

गजेन्द्र सिंह on 21/9/10 8:16 pm ने कहा…

इसे किसी और पर भी उपलब्ध करवाए , यहाँ से डाउनलोड नहीं हो रही है ... .....
इसे भी पढ़े और कुछ कहे :-
http://thodamuskurakardekho.blogspot.com/2010/09/86.html

प्रवीण पाण्डेय on 21/9/10 8:31 pm ने कहा…

बहुत घन्यवाद।

Admin on 21/9/10 9:48 pm ने कहा…

डाउनलोड लिंक ठीक काम कर रहा है। डाउनलोड लिंक दिखाई देने में १ मिनट तक का समय लग सकता है।
हो सकता है आपके Browser में ही कोई दिक्कत हो। धैर्य बनाये रखें ।

- Admin

राजभाषा हिंदी on 22/9/10 7:52 am ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।
काव्य प्रयोजन (भाग-९) मूल्य सिद्धांत, राजभाषा हिन्दी पर, पधारें

novice at blogs on 26/9/10 1:05 am ने कहा…

download is not working, like many other things indian.

जगपुरा on 27/9/10 12:19 am ने कहा…

pl upload अलग अलग वैतरणी. शिव प्रसाद सिंह

बेनामी ने कहा…

very good efforts and every thing is working fine...
i prase ur hard work for our national language hindi.

to commentor :
plz don't say fraud things in ur comment

Kamal on 14/10/10 12:57 pm ने कहा…

आपका बहुत धन्यवाद्, मै यह पुस्तक बहुत दिनों से तलाश कर रहा था.

KAILSH on 29/10/10 6:56 pm ने कहा…

KABIR KE DOHE AUR RAHEEM KE DOHE JAYDA SE UPLABDH KARAYE TO BADI MEHARBANI HOGI.
DHANYBAD

बेनामी ने कहा…

pahali bhar kisi khoji itihas kar ki kitab padhane ko mili nahi to mekale ne koi kasar nahi chorhi thi

बेनामी ने कहा…

वैधानिक चेतावनी---- आप इस प्रकार से 'श्री पुरुषोत्तम नागेश ओक' की पुस्तकों को अपनी 'वेबसाईट' के द्वारा नहीं बाँट सकते हैं | इस पुस्तक पर 'श्री पुरुषोत्तम नागेश ओक' के वारिसों का "कापीराईट" है और इस पुस्तक को छापने और बेचने का अधिकार ---- "हिन्दी साहित्य सदन, करौल बाग़, नई दिल्ली" के पास में है |
अत: आपको वैधानिक चेतावनी दी जाती है कि---- आप इस प्रकार से 'श्री पुरुषोत्तम नागेश ओक' की पुस्तकों को अपनी 'वेबसाईट' के द्वारा बाँटना तुरंत ही बन्द कर दें ----अन्यथा---- आपके विरुद्ध कानूनी कार्यवाही की जायेगी |

बेनामी ने कहा…

'श्री पुरुषोत्तम नागेश ओक' के द्वारा लिखी गई सभी पुस्तकें "हिन्दी साहित्य सदन, करौल बाग़, नई दिल्ली" ने छापी हैं | अत: आप सभी पाठकों को सलाह दी जाती है कि---- यदि आप लोग 'श्री पुरुषोत्तम नागेश ओक' के द्वारा लिखी गई पुस्तकें पढ़ना चाहते हैं तो इस पते पर सम्पर्क करें---- "हिंदी साहित्य सदन, १०/५४, देशबन्धु गुप्ता मार्ग, पुलिस स्टेशन के सामने, करौल बाग़, नई दिल्ली. पिनकोड-- ११०००५"
आप इस पते पर पत्र भेजकर 'श्री पुरुषोत्तम नागेश ओक' द्वारा लिखी गई पुस्तकें मँगा सकते हैं | आपका पत्र मिलने के बाद में---- आपके द्वारा मँगाई गई पुस्तकें "वी. पी. पी. डाक पैकिट" द्वारा भेज दी जायेंगी---- जिनका भुगतान आपको "वी. पी. पी. डाक पैकिट" को प्राप्त करते समय डाकिया (पोस्टमैन) को करना होगा |
अत: अपनी पसन्द की पुस्तकें आज ही मँगायें | इन्टरनेट पर मुफ्त (फ्री) में पुस्तकें पढ़ने से---- उस पुस्तक के लेखक और प्रकाशक को भारी आर्थिक हानि होती है जिससे वह अन्य अच्छी पुस्तकें लिखने और छापने का प्रयास ही नहीं करते हैं | इस प्रकार से साहित्य जगत को भी हानि होती है |
इसलिये समझदार नागरिक बनें और पुस्तकों को खरीदकर ही पढ़ें | इन्टरनेट पर मुफ्त (फ्री) में पुस्तकें पढ़ना उचित नहीं है |

Admin on 27/12/10 9:08 pm ने कहा…

इस वेबसाइट पर उपलब्ध सभी पुस्तकों के लिंक इन्टरनेट से ल्लिये गयें है . 'अपनी हिंदी' इन सभी लिंक का एक संकलन मात्र है .

हम अपने सर्वर पर कोई भी डाटा स्टोर नहीं करते है. बल्कि इन्टरनेट पर पहले से उपलब्ध लिंक ही अपने पाठकों को उपलब्ध करवाते है जो की ग़ैरक़ानूनी नहीं है.

अगर किसी भी व्यक्ति को इन पुस्तकों के इन्टरनेट पर उपलब्ध होने से परेशानी है तो उन वेबसाइट से सम्पर्क कर सकते है जहाँ से ये पुस्तकें डाउनलोड के लिए उपलब्ध है. या फिर आप गूगल पर कानूनी कार्यवाही कर सकते है क्योंकि गूगल भी इसी परकार से लिंक उपलब्ध करवाता है. मगर पहले अपने विधि विशेषज्ञ से अवश्य सलाह ले लें. .

रही बात पुस्तक खरीदने की तो इसमें हम भी लेखकों के साथ है. हमारा सभी पाठकों से अनुरोध है की अगर कोई भी पुस्तक आपको पसंद आती है तो इन पुस्तकों को खरीदकर पढ़े जिससे लेखकों और प्रकाशकों की कुछ सहायता हो सके.

अगर किसी भी पुस्तक का कॉपीराइट आपके नाम पर है और आप उसे यहाँ पर नहीं देखना चाहते है तो कृपया हमारे ई-मेल एड्रेस apnihindi (at) gmail (dot) com पर आवश्यक सबूतों के साथ हमसे संपर्क कर सकते है। कृपया ई-मेल के Subject में copyright अवश्य लिखें। आपकी शिकायत सही पाई जाने पर ३० कार्य-दिवसों के भीतर आवश्यक कार्यवाही की जाएगी।

-Administrator

Admin on 27/12/10 9:31 pm ने कहा…

कृपया ध्यान दे:

एक ही प्रकार की टिप्पणी को बार-बार पोस्ट करना SPAM कहलाता है जो की गैरकानूनी है . इसके लिए सखत सजा का प्रावधान है.

हर टिप्पणीकार का IP Address हमारे सर्वर द्वारा रिकॉर्ड किया जाता है.

इसलिए सभी पाठकों से निवेदन है की SPAM कमेंट्स न करें वेरना आपके विरुद्ध आवश्यक कार्यवाही की जाएगी.

बेनामी ने कहा…

एक ही टिप्पणी को "कई-कई बार" इसलिये पोस्ट किया गया है क्योंकि------------- आप भी तो अपनी 'वेब साईट' के द्वारा एक ही लेखक की "कई-कई" पुस्तकों के लिन्क उपलब्ध करा रहे हैं ----------- वह भी उस पुस्तक के लेखक या प्रकाशक की लिखित अनुमति लिये बिना | अस्तु,

आपने लिखा है कि-------------
अगर किसी भी पुस्तक का कॉपीराइट आपके नाम पर है और आप उसे यहाँ पर नहीं देखना चाहते है तो कृपया हमारे ई-मेल एड्रेस apnihindi (at) gmail (dot) com पर आवश्यक सबूतों के साथ हमसे संपर्क कर सकते है।
-----------------हम शीघ्र ही आपको इस सम्बन्ध में जानकारी भेज रहे हैं | आप इन पुस्तकों के लिन्कों को अपनी वेबसाईट से हटाने की व्यवस्था करके रखें |

बेनामी ने कहा…

please link reupload kare

बेनामी ने कहा…

please re upload kijiye

बेनामी ने कहा…

श्री पुरुषोत्तम नागेश ओक की पुस्तक - 'कौन कहता है अकबर महान था?'
Author: Admin | Posted at: 7:04 PM | Filed Under: इतिहास, पी.एन. ओक, शोध |
This file does not exist!
This link is not working

RAJESH NIRMAL on 7/7/11 6:13 pm ने कहा…

इसे किसी और पर भी उपलब्ध करवाए , यहाँ से डाउनलोड नहीं हो रही है ... .....
इसे भी पढ़े और कुछ कहे :-

Atul Kumar Jaiswal on 29/7/11 4:37 pm ने कहा…

पुस्तक डाउनलोड नहीं हो रही है कृपया इसमें सुधर करे

बेनामी ने कहा…

This file does not exist!

batham ने कहा…

श्री मान जी आज हमारी हिंदी भाषा का उपयोग यू ही नहीं कम हो रहा है हम अपनी भाषा का प्रचार सही रूप से नहीं कर पते जहा चाहे वहा अपना स्वार्थ देखते है आज कोन पुस्तक खरीकर पड़ता है यहाँ तक अपने विषय से सम्बंधित पुस्तक तक नहीं खरीता है इसलिए अप से अनुरुद्ध है की आप पुस्तक का परकासन ऑनलाइन ही करे
वन्दे मातरम
भारत माता की जय

Money Varta on 23/9/11 12:03 am ने कहा…

I am so sorry but this link is not working. whenever i click on this link, the page come up with saying that the file does not exist. Please check the issue.
Thank You

Atul on 23/4/12 3:10 pm ने कहा…

श्री मान जी कृपया LINK सही करे डाउनलोड करने में परेशानी हो रही है

Nikhil Kumar on 5/8/12 11:46 pm ने कहा…

download nahi ho pa rhi hai ,website par file nahi hai yah msg aa rha hai,kripa karke agar kisi mahoday ke pass ya admin se bhi anurodh hai ke kripa karke buddhaditya612@gmail.com par bhej de ,dhnywaad

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियां हमारी अमूल्य धरोहर है। कृपया अपनी टिप्पणियां देकर हमें कृतार्थ करें ।

Blogger Tips And Tricks|Latest Tips For Bloggers Free Backlinks

Deals of the Day

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में

 

ताजा पोस्ट:

लेबल

कहानी उपन्यास कविता धार्मिक इतिहास प्रेमचंद जीवनी विज्ञान सेहत हास्य-व्यंग्य शरत चन्द्र तिलिस्म बाल-साहित्य ज्योतिष मोपांसा देवकीनंदन खत्री पुराण बंकिम चन्द्र वीडियो हरिवंश राय बच्चन अनुवाद देशभक्ति प्रेरक यात्रा-वृतांत दिनकर यशपाल विवेकानंद ओ. हेनरी कहावतें धरमवीर भारती नन्दलाल भारती ओशो किशोरीलाल गोस्वामी कुमार विश्वास जयशंकर प्रसाद महादेवी वर्मा संस्मरण अमृता प्रीतम जवाहरलाल नेहरु पी.एन. ओक रहीम रांगेय राघव वृन्दावनलाल वर्मा हरिशंकर परसाई अज्ञेय इलाचंद्र जोशी कृशन चंदर गुरुदत्त चतुरसेन जैन भारतेन्दु हरिश्चन्द्र मन्नू भंडारी मोहन राकेश रबिन्द्रनाथ टैगोर राही मासूम रजा राहुल सांकृत्यायन शरद जोशी सुमित्रानंदन पन्त असग़र वजाहत उपेन्द्र नाथ अश्क कालिदास खलील जिब्रान चन्द्रधर शर्मा गुलेरी तसलीमा नसरीन फणीश्वर नाथ रेणु

ताजा टिप्पणियां:

अपनी हिंदी - Free Hindi Books | Novel | Hindi Kahani | PDF | Stories | Ebooks | Literature Copyright © 2009-10. A Premium Source for Free Hindi Books

;