वह स्थान मंदिर है, जहाँ पुस्तकों के रूप में मूक, किन्तु ज्ञान की चेतनायुक्त देवता निवास करते हैं। - आचार्य श्रीराम शर्मा
कृपया दायीं तरफ दिए गए 'हमारे प्रशंसक' लिंक पर क्लिक करके 'अपनी हिंदी' के सदस्य बनें और हिंदी भाषा के प्रचार-प्रसार में अपना योगदान दें। सदस्यता निशुल्क है।
Flipkart.com

बुधवार, 5 मई 2010

रामधारी सिंह दिनकर की प्रसिद्ध रचना - रश्मिरथी


यह पुस्तक समर्पित है उन सभी पाठकों को जो इसके लिए पिछले एक साल से लगातार अनुरोध कर रहे है । पिछले एक साल में हमें सबसे ज्यादा अनुरोध इसी पुस्तक के लिए मिले है।

रश्मिरथी, जिसका अर्थ "सूर्य की सारथी" है, हिन्दी कवि रामधारी सिंह दिनकर के सबसे लोकप्रिय महाकाव्य कविताओं में से एक है । रामधारी सिंह दिनकर (२३ सितंबर १९०८- २४ अप्रैल १९७४) भारत में हिन्दी के एक प्रमुख लेखक. कवि, निबंधकार थे।

रश्मिरथी का अर्थ होता है वह व्यक्ति, जिसका रथ रश्मि अर्थात पुण्य का हो। इस काव्य में रश्मिरथी नाम कर्ण का है क्योंकि उसका चरित्र अत्यन्त पुण्यमय और प्रोज्जवल है।



कर्ण महाभारत महाकाव्य का अत्यन्त यशस्वी पात्र है। उसका जन्म पाण्डवों की माता कुन्ती के गर्भ से उस समय हुआ जब कुन्ती अविवाहिता थीं, अतएव, कुन्ती ने लोकलज्जा से बचने के लिए, अपने नवजात शिशु को एक मंजूषा में बन्द करके नदी में बहा दिया। वह मंजूषा अधिरथ नाम के सुत को मिली। अधिरथ के कोई सन्तान नहीं थी। इसलिए, उन्होंने इस बच्चे को अपना पुत्र मान लिया। उनकी धर्मपत्नी का नाम राधा था। राधा से पालित होने के कारण ही कर्ण का एक नाम राधेय भी है।



मैं उनका आदर्श, कहीं जो व्यथा न खोल सकेंगे,
पूछेगा जग, किन्तु पिता का नाम न बोल सकेंगे;
जिनका निखिल विश्व में कोई कहीं न अपना होगा,
मन में लिये उमंग जिन्हें चिर-काल कलपना होगा।

---- इसी पुस्तक से




फाइल का आकार:
14 Mb




8 डाउनलोड लिंक (Rapidshare, Hotfile आदि) :
कृपया यहाँ क्लिक करें




(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो तो कृपया यहाँ क्लिक करें)

ये पुस्तक आपको कैसी लगी? कृपया अपनी टिप्पणियां अवश्य दें।

13 टिप्पणियां:

कुमार राधारमण on 5/5/10 7:45 am ने कहा…

यह एक अद्भुत रचना है। कर्ण के चरित्र के कुछ नकारात्मक पहलुओं के बावजूद,इस पुस्तक को कहीं से भी पढिए,गर्व का भाव भरती है।

PD on 5/5/10 7:26 pm ने कहा…

Thanks

कविता रावत on 5/5/10 7:51 pm ने कहा…

Prastuti ke liye dhanyavaad.....

anand on 7/5/10 11:25 pm ने कहा…

ye ek bejod rachna hai

** PRINCESS KAUSHALYA** on 10/5/10 1:17 pm ने कहा…

"रश्मिरथी" ke dwara "कर्ण" ka Patra ubharkar bahar aya hai...
yah Rachna hume M.A. ke Part 1 me padhne me ata tha...

Sanjay nitrr on 18/6/10 10:57 pm ने कहा…

Jabardast ..!!
Shivaji shawant ki maharathi karn ke upar ek jabardast novel hai "MRITYUNJAY" ..wo padhe !!

बेनामी ने कहा…

Hindi sahitya mein Munshi Premchand, Babu Devkinandan Khatri aur Jayshankar Prasad ki rachnaaen advitiya avam akalpaniya hain. Mere pita ji jasusi upanyason ke shaukin hain tatha upanyason se hi mujhe kitaben padne ki aadat padi lekin in Mahan sahityakaron ki rachnaon ka koi mukablan nahi. Kripya Janpriya Lekhak Om Prakash Sharma Ji ki upanyason ko bhi apni website par sthan de. Ye bhe hindi sahitya ke prachar prasar me mahtvapurna siddh hoga. In bahumulya kritiyon ko internet ke madhyam se ham hindi premiyon ko uplabdh karane ke liye Hardik Abhaar!

Santosh on 27/1/12 4:23 am ने कहा…

dinkar ka ek nibandh maine apni class x mein padha tha- Himmat aur Zindagi. please kisi mahoday ke paas agar ho to upload karein

Rajeev Bilochan Mishra on 23/2/12 2:44 pm ने कहा…

Dinkar ji vastav me rashtra kavi the.Mai bachpan se hi unka prashanshak hun.Ase rashtra kaviyon ki aj desh ko awashyakata hai.

Dr. Pradeep Parmar on 24/3/13 10:19 am ने कहा…

मै रश्मिरथी डाउनलोड नहीं कर पा रहा हु.. डाउनलोड मेनेजर तो डाउनलोड हो जाता है पर वो वायरस होने की वजह से नष्ट हो जाता है.. कृपया मदद करें ..

Anuj Jha on 3/4/13 11:57 am ने कहा…

please download nahi ho raha hai koi bataye

Rahul Kumar on 7/5/13 2:03 am ने कहा…

can anyone send me the file or file link on
mr.rahul.in@gmail.com

Rahul Kumar on 9/5/13 1:06 am ने कहा…

निंदक नियरे राखिये, आँगन कुटी छवाय
बिन पानी साबुन बिना, निर्मल करे सुभाय
agar ap mere comment ka bura man gaye to please mujhe apne site par
block kar den..taki mai dubara na auu
ye mera IP adress ka range hai
177.236.100.0 to 177.236.170.255

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियां हमारी अमूल्य धरोहर है। कृपया अपनी टिप्पणियां देकर हमें कृतार्थ करें ।

Blogger Tips And Tricks|Latest Tips For Bloggers Free Backlinks

Deals of the Day

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में

 

ताजा पोस्ट:

लेबल

कहानी उपन्यास कविता धार्मिक इतिहास प्रेमचंद जीवनी विज्ञान सेहत हास्य-व्यंग्य शरत चन्द्र तिलिस्म बाल-साहित्य ज्योतिष मोपांसा देवकीनंदन खत्री पुराण बंकिम चन्द्र वीडियो हरिवंश राय बच्चन अनुवाद देशभक्ति प्रेरक यात्रा-वृतांत दिनकर यशपाल विवेकानंद ओ. हेनरी कहावतें धरमवीर भारती नन्दलाल भारती ओशो किशोरीलाल गोस्वामी कुमार विश्वास जयशंकर प्रसाद महादेवी वर्मा संस्मरण अमृता प्रीतम जवाहरलाल नेहरु पी.एन. ओक रहीम रांगेय राघव वृन्दावनलाल वर्मा हरिशंकर परसाई अज्ञेय इलाचंद्र जोशी कृशन चंदर गुरुदत्त चतुरसेन जैन भारतेन्दु हरिश्चन्द्र मन्नू भंडारी मोहन राकेश रबिन्द्रनाथ टैगोर राही मासूम रजा राहुल सांकृत्यायन शरद जोशी सुमित्रानंदन पन्त असग़र वजाहत उपेन्द्र नाथ अश्क कालिदास खलील जिब्रान चन्द्रधर शर्मा गुलेरी तसलीमा नसरीन फणीश्वर नाथ रेणु

ताजा टिप्पणियां:

अपनी हिंदी - Free Hindi Books | Novel | Hindi Kahani | PDF | Stories | Ebooks | Literature Copyright © 2009-10. A Premium Source for Free Hindi Books

;