वह स्थान मंदिर है, जहाँ पुस्तकों के रूप में मूक, किन्तु ज्ञान की चेतनायुक्त देवता निवास करते हैं। - आचार्य श्रीराम शर्मा
कृपया दायीं तरफ दिए गए 'हमारे प्रशंसक' लिंक पर क्लिक करके 'अपनी हिंदी' के सदस्य बनें और हिंदी भाषा के प्रचार-प्रसार में अपना योगदान दें। सदस्यता निशुल्क है।
Flipkart.com

मंगलवार, 9 जून 2009

कटोरा भर खून (वीरेन्द्र वीर) - देवकीनंदन खत्री



चंद्रकांता उपन्यास से देश-विदेश में प्रसिदी प्राप्त करने वाले देवकीनंदन खत्री का उपन्यास है - कटोरा भर खून। इसे  वीरेन्द्र वीर के नाम से भी जाना जाता है.



कटोरा भर खून -
जिसके लिए एक बाप अपनी बेटी का कत्ल करने को तैयार हो गया।

कटोरा भर खून -
जिसके लिए जाने कितने षडयंत्र रचे गए।

कटोरा भर खून -
जिसने कई जिंदगियां तबाह कर दी।


आख़िर क्या था इसका सच ?

जानने के लिए पढिये :

कटोरा भर खून

रेमचंद से पूर्व के उपन्यासों में घटना को प्रमुखता देने वाले उपन्यासकारों में देवकीनंदन खत्री के उपन्यास इतने रोचक होते थे कि उनको यदि पढ़ना शुरू कर दिया जाता तो वे पाठक को ऐसा बांध लेते कि उनसे छूटना असंभव हो जाता है। पाठक को वशीभूत करने की अपनी कला में खत्री जी धीरे-धीरे इतने प्रसिद्ध होते गए कि उनकी कृतियों को पढ़ने की ललक हिंदी के पाठकों में बढ़ती गई और यह क्रम जब बहुत बढ़ने लगा तो अहिंदी भाषियों ने देवकीनंदन खत्री की कीर्ति का आकर्षण अनुभव किया और हिंदी सीखी।

खत्री जी की किस्सागोई अनुपम थी। खत्री जी ने ज्योतिष, राजनीति, धर्म तथा मानवीय संवेदना को एक साथ घटनाओं में इस प्रकार गूंथा है कि उसकी मोहक और सुवासित मात्रा भारती का कंठहार बन गई है। कुसुम कुमारी, चंद्रकांता संतति, वीरेन्द्र वीर या कटोरा भर खून, काजर की कोठरी, भूतनाथ, लैलामजनू, गुप्त गोदना, नौलखा हार, अनूठी बेगम आदि उनके अन्य उपन्यास हैं। 

 खत्री जी का जन्म समस्तीपुर में 18 जून 1861 को हुआ था। ननिहाल मुजफ्फरपुर में उनका बचपन बीता। वहीं उन्होंने संस्कृत और हिंदी सीखी, अंग्रेजी, फारसी और उर्दू पढ़ी। 24 साल की उम्र में वे चकिया, नौगढ़ के जंगलों में ठेकेदारी करने वाराणसी आ गए। 1898 में उन्होंने लहरी प्रेस स्थापित किया और 'सुदर्शन' मासिक पत्रिका निकाली। उन्होंने समाज के विभिन्न वर्गो के लोगों पर सफलतापूर्वक लिखा। उनका उपन्यास भूतनाथ अधूरा ही रहा। मरणोपरान्त उनके पुत्र दुर्गाप्रसाद खत्री ने उसे पूर्ण किया।


 देवकीनंदन खत्री का अन्य महान उपन्यास 'भूतनाथ' भी 'अपनी हिंदी' पर उपलब्ध है. इसे डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें.
देवकीनंदन खत्री के अन्य सभी उपन्यास डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें






फाइल का आकार: 10 Mb 


8 डाउनलोड लिंक (Rapidshare, Hotfile आदि) :
कृपया यहाँ क्लिक करें


(डाउनलोड करने में कोई परेशानी हो/डाउनलोड करना नहीं आता  तो कृपया यहाँ क्लिक करें)












Hindi PDF



ये पुस्तक आपको कैसी लगी? कृपया अपनी टिप्पणियां अवश्य दें।

4 टिप्पणियां:

Shahid on 16/4/11 2:27 pm ने कहा…

I am a fan of Devki Nandan Khatri. Very mysterious novel.

satish singh ने कहा…

फाइल डाउनलोड नहीं हो रही हैं कृपया मेरी सहायता करे
सतीश सिंह

Deep on 17/4/12 7:55 pm ने कहा…

Password pl

बेनामी ने कहा…

http://www.4shared.com/get/IBi87RZ4/Katora_Bhar_Khoon.html

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियां हमारी अमूल्य धरोहर है। कृपया अपनी टिप्पणियां देकर हमें कृतार्थ करें ।

Blogger Tips And Tricks|Latest Tips For Bloggers Free Backlinks

Deals of the Day

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में

 

ताजा पोस्ट:

लेबल

कहानी उपन्यास कविता धार्मिक इतिहास प्रेमचंद जीवनी विज्ञान सेहत हास्य-व्यंग्य शरत चन्द्र तिलिस्म बाल-साहित्य ज्योतिष मोपांसा देवकीनंदन खत्री पुराण बंकिम चन्द्र वीडियो हरिवंश राय बच्चन अनुवाद देशभक्ति प्रेरक यात्रा-वृतांत दिनकर यशपाल विवेकानंद ओ. हेनरी कहावतें धरमवीर भारती नन्दलाल भारती ओशो किशोरीलाल गोस्वामी कुमार विश्वास जयशंकर प्रसाद महादेवी वर्मा संस्मरण अमृता प्रीतम जवाहरलाल नेहरु पी.एन. ओक रहीम रांगेय राघव वृन्दावनलाल वर्मा हरिशंकर परसाई अज्ञेय इलाचंद्र जोशी कृशन चंदर गुरुदत्त चतुरसेन जैन भारतेन्दु हरिश्चन्द्र मन्नू भंडारी मोहन राकेश रबिन्द्रनाथ टैगोर राही मासूम रजा राहुल सांकृत्यायन शरद जोशी सुमित्रानंदन पन्त असग़र वजाहत उपेन्द्र नाथ अश्क कालिदास खलील जिब्रान चन्द्रधर शर्मा गुलेरी तसलीमा नसरीन फणीश्वर नाथ रेणु

ताजा टिप्पणियां:

अपनी हिंदी - Free Hindi Books | Novel | Hindi Kahani | PDF | Stories | Ebooks | Literature Copyright © 2009-10. A Premium Source for Free Hindi Books

;